एक सौ आठ कड़ियों में दूसरी कड़ी

बृहस्पत

बिधाता, जगत गुरु एवं ब्रह्मा जी महाराज
श्री ब्रह्मा जी महाराज दोनों जहां और त्रैलोकी का मालिक
मित्र ~ सूर्य, चंद्र एवं मंगल
शत्रु ~ बुध एवं शुक्र
सम ~ शनि, राहु एवं केतु
मशनुई ~ सूर्य एवं शुक्र

🌺ख़ाना नम्बर २🌺

पक्का घर

सबको तारने वाला जगत का धरम गुरु, अपना ही ख़ानदान तबाह करने वाला कुल ग़ारत एवं इल्म व तालीम का मालिक

गाय, अस्थान, मेहमान नवाज़ी, पूजा, धन, माया, चने की दाल

🌸संक्षिप्त फल कथन🌸

१~ पत्नी सुंदर होगी।
२~ सब काम अपने आप बनेंगे।
३~ मिट्टी के कामों से लाभ होगा।
४~ २७ वर्ष से राजदरबार में या अपने काम में तरक्की करेगा।
५~ जब शनि नम्बर १२ में हो, तो नेपोलियन की तरह जमाने का एक वीर, काम का आदमी, सुखी हो।
६~ बुध खाना नम्बर ८ शनि खाना नम्बर १० में हो, तो धन हानि या बुजुर्ग या दु:खी रहेंगे।
७~ केतु खाना नम्बर ६ में जातक की मृत्यु का पहले ही पता चलता है।
८~ यदि वर्ष फल में शनि खाना नम्बर २ आए तो स्वास्थ्य बिगड़े और ससुराल में धन हानि हो।
९~ जब खाना नम्बर २, ६ एवं ८ शुभ हो तथा खाना नम्बर १२ अशुभ न हो, तो जातक को दबा माल या लाटरी या नि:संतान व्यक्ति की जायदाद मिलेगी।

नोट~

विस्तृत फल कथन हेतु सशुल्क (₹ ७००) सम्पर्क करें।

🌷संक्षिप्त उपाओ🌷

१~ सांप को दूध पिलाएं।
२~ परोपकारी बनें एवं दान धर्म में विश्वास करें।
३~ घर आए व्यक्ति की सेवा से पीछे न हटें।
४~ केसर या हल्दी का तिलक करें।
५~ घर में कच्चा हिस्सा अवश्य रखें।
६~ गले में सोने की चेन पहनें।
७~ लगातार ४३ दिन बृहस्पतिवार से बृहस्पतिवार मन्दिर जाएं।
८~ खाना नम्बर १ में बुध व राहु हों, तो शनि का उपाय करें, जहां भी वह उपस्थित हो।
९~ खाना नम्बर १ में बुध व शुक्र हों, तो चंद्र का उपाय करें, जहां भी वह उपस्थित हो।

नोट~

विस्तृत उपाओ हेतु सशुल्क (₹ ७००) सम्पर्क करें।

💐लेखक एवं संकलनकर्त्ता💐

सूर्यांक कुमार गुप्ता
ज्योतिष मर्मज्ञ
वैदिक एवं लाल किताब
उपाध्यक्ष – ज्योतिष परिवार™
व्हाट्सऐप ~ ८८४०४००४१७

संकल्प~

श्रावण मास में लाल किताब के अन्तर्गत १२ खानों एवं ९ ग्रहों का क्रमानुसार विश्लेषण करने का संकल्प लिया गया है, जिसे अगले वर्ष श्रावण मास में ही पूर्ण करना होगा। अर्थात् प्रत्येक ३-४ दिनों के नियमित अन्तराल पर लेखों को ज्योतिष शास्त्र में रुचि रखने वाले जातकों, विद्यार्थियों एवं विद्वानों हेतु प्रदान किया जाएगा।

धन्यवाद!

ॐ.ॐ..ॐ…ॐ….ॐ…..

🌼🌸🌻💐🌺🌷🌹