Advertisements

Gems Analysis

नवरत्न विश्लेषण

(सर्वश्रेष्ठ रत्न, श्रेष्ठ रत्न एवं नेष्ट रत्न)

यदि आप रत्नों (माणिक्य, मोती, मूंगा, पन्ना, पुखराज, हीरा, नीलम, गोमेद एवं लहसुनिया) को लेकर भ्रम की स्थिति में हैं,
जैसे कि – 
कौन सा धारण करें?
किस हाथ में धारण करें? 
किस उंगली में धारण करें? 
किस दिन धारण करें? 
किस धातु में धारण करें? 
कितने कैरेट का धारण करें? 
किस समय धारण करें? 
किस नक्षत्र में धारण करें? 
किस मंत्र से अभिमंत्रित करें? 
इत्यादि प्रश्नों के उत्तर खोज रहे हैं तो अब आपको और अधिक प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है।

आपकी कुंडली में जो ग्रह शुभ होते हैं केवल वही रत्न धारण किये जाते हैं और जो अशुभ होते हैं उनके रत्न धारण नहीं किये जाते। अतः अशुभ रत्नों से स्वयं को दूर ही रखें।

इस शीर्षक के अन्तर्गत आपको लगभग 300 शब्दों में व्याख्या प्रदान की जाएगी, जोकि 99 प्रतिशत तक शुद्ध होगी।

आप ₹ 300 के अल्प शुल्क से ही नवरत्न विश्लेषण (फलकथन) प्राप्त कर सकते हैं।